उद्देश्य :

प्रबंधन एवं व्यवस्थापन विभाग ग्रामीण औद्योगीकरण हेतु आवश्यक जानकारी व संप्रेषण व्दारा प्रौद्योगिकी पर आधारित सहायता प्रदान करता है ताकि वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा के लिए वो तयार हो सके।

प्रमुख गतिविधियॉं

1) खादी व ग्रामोद्योग क्षेत्र / लघु उद्यमों पर ध्यान केंद्रित करते हुए सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय(MSME) के सम्मुख उपस्थित समस्याओं के लिए ICT पर आधारित नवीनतम निदानों को ढूँढना तथा उचित वितरण पध्दतियों को विकसित करना।

2) लघु उद्यमों तथा उनके पणधारियों (स्टोकहोल्डर्स) में प्रभावी जालतंत्र (नेटवर्क) तैयार करना । विशेष मदद हेतु एमगिरि एक विश्वस्त केंद्र के रूप में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (S&T) तथा प्रबंधन संस्थानों के बीच कार्य करना ताकि समस्याओं और निदानों को आपस मे सुलझाया जा सके।

3) एक डाटा –संचय तैयार करना जो उपरोक्त उद्देश्यों की प्राप्ति में मददगार साबित हो जो कि इन पर केंद्रित रहेगा:
प्रौद्योगिकी
नवीनतम उत्पाद / संगठनों
गुणवत्ता / उत्पादों के स्तर

4) एमगिरि तथा इसके अंतराफलक भागीदारों द्वारा विकसित प्रौद्योगिकी के प्रचार-प्रसार में ई-ज्ञान, कंप्यूटर , आधारित प्रशिक्षण उपकरणों आदि द्वारा मदद करना।

5) एमगिरि के अंतराफलक संस्थानों के सहयोग से ई-आधारित पद्धतियॉं , उत्पाद एवं उत्पादन प्रक्रिया की गुणवत्ता एवं मानक तैयार करना जो सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के निर्देशानुसार हो।

अवसंरचना :-

प्रबंधन एवं व्यवस्थापन की अवसंरचना प्रमुख रूप से एमगिरि के विभिन्न विभागों को ICT का आधार देती है। इसके अंतर्गत शिल्पशालाओं के लिए सर्वर वाई-फाई (बिना तार का), कार्य स्टेशन तथा CBT उत्पादन प्रयोगशाला सुविधाएँ जिसमें विस्तृत दृश्य/ श्रव्य रिकार्डिंग का समावेश है। सूक्ष्म ,लघु एवं मध्यम उद्यम क्षेत्र के लिए विभाग के पास वर्तमान में दो वेबसाईट्स हैं।:

वेबसाइट्स की प्रमुख विशेषताएँ

www.ruralhaat.com

mark-1

www.ruralhaat.com का उद्देश्य ग्रामीण उत्पादकों तथा सूक्ष्म उद्यमों आदि को दिशा अथवा विपणन सहायता प्रदान करना हैं। एसएमएस (SMS), ई-मेल (Email), टेलीफोन व्दारा संभावित उपभुक्ता यह उत्पादकों से सम्पर्क कर सकते हैं।

www.greenkhadidesigns.com

यह वेबसाइट खादी संस्थानों को फैशन में अग्रसर रहने वाले डिज्ञाइनों( बुनी हुई डिज्ञाइन व वेशभूषा डिज्ञाइन दोनों) जो एमगिरि , वर्धा तथा अन्य स्थानों के शिल्प शाला के जालतंत्र (नेटवर्क) व्दारा तैयार की जाती है। मूलरूप से सौर फैब बाजार (SFM) , खादी फैब बाजार (KFM) जो एमगिरि व्दारा प्रस्तावित हैं का मुक्त प्रसार जालतंत्र के लिए उचित प्रबंध करेगा।

mark-2

mark-2-team